Top Newsविदेश

क्या पाकिस्तान ने अमेरिका से सलाह ली थी? ईरान पर हमला करने से पहले का खुलासा

अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मैथ्यू मिलन ने बृहस्पतिवार को अपनी एक बयान में यह बताया कि इस तरह के बढ़ रहे तनाव के कारण हम चिंतित हैं। उन्होंने यह बताया कि मैंने कई बार कहा कि 7 अक्टूबर की घटना के बाद से लड़ाई बढ़ाने की आशंका से चिंतित हुए हैं।

वाशिंगटन (अमेरिका). ईरान और पाकिस्तान के बीच जो तनाव बढ़ गया है इस तनाव की वजह से ही दुनिया भर के कई देश चिंताओं में डूबे हुए हैं। अमेरिका ने भी चिंता जताई है और कहा कि दोनों पक्ष शांति जरूर बनाए रखें। अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मैथ्यू मिलन ने बृहस्पतिवार को अपनी एक बयान में यह बताया कि इस तरह के बढ़ रहे तनाव के कारण हम चिंतित हैं। उन्होंने यह बताया कि मैंने कई बार कहा कि 7 अक्टूबर की घटना के बाद से लड़ाई बढ़ाने की आशंका से चिंतित हुए हैं।

पाकिस्तान ने क्या लिया अमेरिका से सलाह 

अमेरिकी विदेश प्रवक्ता ने बताया कि हम लगातार बढ़ रहे तनाव को कम करने की कोशिश में लगे हुए हैं। अमेरिका ने पाकिस्तान के सुलझाने वाले बयान के मुद्दे की प्रशंसा की है और कहा है कि लड़ाई को बढ़ाने की कोई भी जरूरत नहीं है। क्या पाकिस्तान ईरान पर हमला करने से पहले अमेरिका से सलाह आदि लिया था। यह बात मिलर से पूछी गई तो उन्होंने कहा कि ऐसी बात की कोई अभी तक जानकारी उनके पास नहीं आई है।

अमेरिका ने किया ईरान की आलोचना

अमेरिकी विदेश प्रवक्ता ने बताया कि अमेरिका का पाकिस्तान गैर नाटो सहयोगी देश है और वह रहेगा लेकिन हम सभी पक्षों से शांति के लिए ही अपील करते हैं। अमेरिका ने ईरान की आलोचनाएं भी की है। मिलन ने बताया कि ईरान ने पाकिस्तान सहित तीन पड़ोसी देशों पर स्ट्राइक मारी है। ईरान पहले से ही आतंकवाद को बढ़ावा देने और मध्य पूर्व में अस्थिरता को बढ़ावा देने में आगे रहा है। यही कारण है कि गाजा में संघर्ष बढ़ रहा है।

अमेरिका सभी हालातों पर रखे हुए है नजर

अमेरिका ने बताया कि ईरान हमेशा से हमास का समर्थन कर रहा है। हिजबुल्ला के साथ-साथ हूतियों को भी फंडिंग भी प्रदान कर रहा है। ईरान क्षेत्र की अस्थिरता को बढ़ा रहा है। इसी वजह से हम कार्यवाई कर रहे हैं। व्हाइट हाउस में किर्बी ने बताया कि अमेरिका सभी हालातो पर अपनी नजर लगाए हुए है। वह पाकिस्तान सहयोगियों के संपर्क में बना हुआ है। इसलिए उसने कहा कि दोनों देशों को तनाव बढ़ाने की कोई जरूरत ही नहीं है। उन्होंने ईरान की क्षेत्रीय अस्थिरता बढ़ाने और ईरान पर एयर स्ट्राइक करने की आलोचना का भी आरोप लगाया।

अमेरिकी संयुक्त राष्ट्र चीफ ने जताई चिंता

अमेरिकी संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने पाकिस्तान और ईरान के बीच बढ़ रहे इस तनाव पर चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों को शांति बनाए रखने की जरूरत है। ईरान ने मंगलवार को आतंकी संगठन जैश अल अदल के ठिकानों पर एयर स्ट्राइक की थी। इस पर पाकिस्तान में बहुत ही नाराजगी जलते हुए दो बच्चों के मौत की जिम्मेदारी का दवा किया। इसके जवाब में पाकिस्तान ने ईरान की सीमा में एयर स्ट्राइक कर दी, जिसके करण नौ लोगों के मौत की खबर सामने आई। इसीलिए दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ चुका है।

 

Back to top button