BREAKINGTop Newsदेश

किसान आंदोलन : हरियाणा की 14 सीमाएं सील, किसानों ने डाला डेरा, आज बढ़ेंगे फिर मार्च के लिए

मामला अभी तक रुका हुआ नहीं है। आज तो हालत कल से भी ज्यादा गंभीर होने के दिख रहे हैं।

नई दिल्ली (भारत). किसानों और पुलिस के बीच कल दिल्ली में बहुत झड़पे पर हुई। एक-दूसरे की ओर से विभिन्न प्रकार की हलचलें की गई। दिनभर टकराव, झड़प, हिंसा और सरकार से गतिरोध के बीच किसान दिल्ली की ओर बढ़ने की कोशिश कर रहे हैं। किसानों को रोंकने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गले दागे, जिससे कि वह रुक जाएं और आगे बढ़ न सके। लेकिन मामला अभी तक रुका हुआ नहीं है। आज तो हालत कल से भी ज्यादा गंभीर होने के दिख रहे हैं।

आज बढ़ेंगे फिर मार्च के लिए

हरियाणा पंजाब के कई बॉर्डर सीमाओं पर पुलिस से किसानों का टकरा हुआ। किसान हर संभव प्रयास कर दिल्ली की ओर बढ़ते का प्रयास कर रहे हैं। कल दिन भर एक-दूसरे की ओर से हलचलें हुई। पुलिस ने किसान आंदोलन कार्यों को रोंकने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। वहीं किसान आगे बढ़ाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। पुलिस ने किसानों को दिल्ली की ओर बढ़ने से रोकने के लिए आंसू गैस के गोले दागे। आज फिर किसान दिल्ली की ओर बढ़ने का प्रयास कर रहे हैं। आज ऐसा बताया जा रहा है कि कल से भी ज्यादा गंभीर हालत होने वाले हैं।

किसानों ने 12 मांगे की

आंदोलनकारी किसानों ने 12 मांगे की है, जिस पर कई बैठक हुई, लेकिन सहमति नहीं बन पाई है। इसलिए किसानों ने दिल्ली मार्च करना शुरू कर दिया है। पंजाब के विभिन्न इलाकों से किसान ट्रैक्टर-ट्रालियों पर टेंट और अपना राशन का सामान लेकर मार्च के लिए निकल पड़े हैं। किसानों को हरियाणा के बॉर्डर पर रोंक दिया गया है। बॉर्डर पर पुलिस और किसानों के आपसी टकराव में 100 किसान व अंबाला के नारायणगढ़ के डीएसपी समेत 19 जवान घायल हुए हैं।

अर्धसैनिक बलों की 64 कंपनियां और पुलिस की 50 कंपनियां तैनात

पंजाब से लगी हुई हरियाणा की सभी 14 सीमाओं पर लगभग 20,000 किसान एकत्रित हुए हैं। उनको रोकने के लिए हरियाणा में अर्धसैनिक बलों की 64 कंपनियां और पुलिस की 50 कंपनियां तैनात की गई है। हरियाणा के किसी भी बॉर्डर से पंजाब के किस आगे दिल्ली मार्च करने के लिए अभी तक बढ़ नहीं पाए हैं। लगभग रात 8 बजे ऐलान किया कि वह बुधवार को दिल्ली के लिए मार्च करने बढ़ेंगे। किसानों ने वहीं पर डेरा डाल रखा है।

Back to top button