देश

मणिपुर : पिता पुत्र समेत 4 लोगों की हुई हत्या

मणिपुर में पिता पुत्र सुमित चार लोगों की हत्या कर दी गई है। यह घटना रात 11:00 बजे हुई। मणिपुर में नहीं थम रहा है आतंकवादियों का सिलसिला। घटनाओं को देखते हैं भारी सुरक्षा व्यवस्था तैनात कर दी गई है।

मणिपुर (इंफाल). 24 घंटे में अलग-अलग स्थान से घटनाओं में पिता पुत्र सहित चार लोगों की मौत जातीय हिंसा के बीच कर दी गई है। अन्य कई घायल भी हो गए हैं। विष्णुपुर जिले के विष्णु पर पुलिस स्टेशन के अंतर्गत निंगथौखोंग खा खुनौ में बृहस्पतिवार के दिन शाम के टाइम में 4:00 बजे हथियार बंद लोगों ने पिता पुत्र सहित तीन लोगों की गोली मार कर हत्या कर दी है। मृतकों की पहचान ओइनम बामोनजाओ और उनके बेटे ओइनम मेनिटोंबा तथा थियाम सोमेन के रूप में हुई है। सभी निंगथौखोंग खा खुनौ के निवासी बताए गए हैं।

घटना रात 11:00 बजे हुई

सूत्रों के अनुसार छह लोग घायल भी हुए हैं। इस घटना के कारण दक्षिणी राज्य के निंगथौखोंग खा खुनौ के बाजार और उसके आसपास तनाव का माहौल छा गया है। बुधवार की रात मैं लगभग 11:00 बजे के समय में इंफाल के पश्चिम जिले के कांगचुप में हमला हुआ है जिसमें 26 वर्षीय मैं मैतेई ग्राम रक्षा स्वयंसेवक की मौत हो गई है। जिसकी पहचान का ताखेललंबम मनोरंजनन के रूप में हुई है।

अपराधी भागने में रहें सफल

सूत्रों के अनुसार जब यह लोग आपूर्ति योजना की मिनी वाटर टंकी से पानी भरकर वापस आ रहे थे तभी लगभग पांच अज्ञात हथियार बंद लोगों ने 3 ग्रामीणों को रोक कर और बहुत ही पास से जाकर गोली मारकर उनकी हत्या कर दी। वह अपराधी जिले की सीमा के पास की पहाड़ी की ओर भागने में सफल रहें।

बढ़े तनाव से लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन

मरे हुए लोगों की लाश को पोस्टमार्टम के लिए रिम्स अस्पताल में रखा गया है। इस घटना से लोगों में तनाव फैल गया है जिससे विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ है। तीन लोगों की हत्या के खिलाफ एक संयुक्त कार्यवाही समिति का गठन हो रहा है। मणिपुर में जाति हिंसा रोकने का नाम नहीं ले रही है दो पुलिस कमांडो सहित सात लोग मारे जा चुके हैं। राज्य में अब तक 180 लोग से अधिक मारे गए हैं।

सुरक्षा सलाहकार कुलदीप सिंह ने बताया

मणिपुर के सुरक्षा सलाहकार कुलदीप सिंह ने बताया कि राज्य पुलिस की तीन कमांडो इकाइयों की तैनाती पर्याप्त नहीं है। इसलिए लोग घटनाओं का शिकार हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि सीमावर्ती शहर के पास तीन कमांडो इकाइयों को तैनात करने का निर्णय लिया है।

कमांडो की चौकियों को बनाया निशाना

आतंकवादियों ने तीन स्थानों पर कमांडो की चौकियों को निशाना बनाया है। हमारे कमांडो निचले इलाकों में तैनात है इसलिए वह कोई कार्यवाही नहीं कर पा रहे हैं। इसलिए अब उनको ऊंचाई वाले इलाकों में स्थानांतरित करने का फैसला किया गया है ताकि वह उचित मुकाबला कर सकें।

सुरक्षा व्यवस्था की गई तैनात

सुरक्षा की दृष्टि से आतंकवादियों के खिलाफ बीएसएफ की एक टुकड़ी, सेना की दो टुकड़ियां, और चार कैसे पर वाहनों सहित अतिरिक्त बल यहां पर तैनात कर दिया गया है। इसके अलावा केंद्रीय गृह मंत्रालय का एक हेलिकॉप्टर भी इस इलाके में पहुंच गया है।

Back to top button