उत्तर प्रदेश

मोदी कैबिनेट का जातीय और क्षेत्रीय संतुलन पर होगा फोकस, हर वर्ग को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश

लखनऊ (उत्तर प्रदेश). प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तीसरे शासन काल में मोदी कैबिनेट का फोकस जाति और क्षेत्रीय संतुलन पर रहने वाला है। ओबीसी के साथ-साथ दलित की हिस्सेदारी बनाए रखना होगा। हर वर्ग और हर वर्ग के समाज को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश भी की जाएगी।

हर वर्ग को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश

उत्तर प्रदेश में भाजपा की सीटें कम हो गई हैं, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में यूपी के हिस्सेदारी के साथ-साथ जाति और क्षेत्रीय संतुलन का विशेष ध्यान रखा गया है। सीटें कम होने के कारण यूपी में 10 मंत्री बनाए गए हैं। यहां पर हर वर्ग और समाज को प्रतिनिधित्व देने की कोशिश की गई है। जाति समीकरण के अनुसार, ओबीसी और दलितों की हिस्सेदारी में कोई कमी नहीं रखी गई है। इस बार कई मंत्रियों के चुनाव हार जाने के कारण यूपी में सिर्फ दो ही कैबिनेट मंत्री बचे हैं।

Back to top button